Sunday, February 28, 2010

कुछ ठहाके, कुछ हंसियां, कुछ मोती


सु
ख क्या होता है? सुख के चार लम्हे क्या सुख दे जाते हैं? या सुख को और निचोड़ कर सुखा जाते हैं? हंसी के चार ठहाके जब शांत होते हैं तो क्या उजाड़ हसरतें नहीं छोड़ जाते?

कैसी कड़ी मेहनत करवाती है, जबरदस्ती की हंसी। कितना बदसूरत हो उठता है चेहरा जबरन होठों को खींच कर हंसी क्रिएट करने में। जिसने जिन्दगी में एक बार हंस ली यह हंसी, कौन जानता है कि यह हंसी फिर कब कब कितनी ही बार लौट लौट कर नहीं आएगी। और उसे इसे स्वीकारना ही होगा।

हंसिए तो दिल खोल कर- डॉयलॉग अच्छा है। हंसिए तो दिल खोल कर जैसे स्वीकार किए जा चुके साहित्य को रविवार की रात को होलिका दहन के दौरान भस्म कर देना चाहिए। बचपन से जिन सूक्ति वाक्यों को सुन सुन कर पढ़ पढ़ कर घोल घोल कर हम पीते आए...सालों की ज़िन्दगी गुजार देने के बाद पता चलता है हरेक की ज़िन्दगी अपने लिए खुद एक महाकाव्य रचती है। बीतते बीतते। ये बात और है कि आप अगले जन्म (यदि पुर्नजन्म में यकीं रखते हों तो) में इस महाकाव्य का प्रयोग नहीं कर पाएंगे। जन्म से लेकर मृत्यु तक रचा गया हर यह महाकाव्य मृत्यु के बाद नष्ट हो जाता है। हर जन्म में हर योनि में हर युग में...बार बार हर बार फिर से शुरू..होती है रचना।

रक्त संबंधों की, देह संबंधों की, व्यक्तिगत संबंधों की, प्रेम संबंधों की, अनाम संबंधों की एक कभी न खत्म होने वाली पर हर बार नई रचना।

9 comments:

Vivek Rastogi said...

सुख बहुत दुखों के बाद आता है अगर दुख नहीं होता तो शायद कोई सुख का महत्व नहीं समझ पाता ।

होली की शुभकामनाएँ

महेन्द्र मिश्र said...

होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाये और ढेरो बधाई ...

डॉ महेश सिन्हा said...

होली की रात में ऐसी क्या बात थी

संजय भास्कर said...

होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाये और ढेरो बधाई ...

कौशल तिवारी 'मयूख' said...

दुःख तो सुख का साथी है इसे ऐसा ही लेना चाहिए

Amit K Sagar said...

बेहतरीन लिखा है आपने.
जारी रहें. शुभकामनाएं.
[उल्टा तीर]

जयराम “विप्लव” { jayram"viplav" } said...

कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

कलम के पुजारी अगर सो गये तो

ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ , साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

संगीता पुरी said...

इस नए चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

संगीता पुरी said...

इस नए चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

यहां रोमन में लिखें अपनी बात। स्पेसबार दबाते ही वह देवनागरी लिपि में तब्दील होती दिखेगी।